महादेवी वर्मा जी का जीवनी । Biography Of mahadevi verma in hindi.

महादेवी वर्मा जी का जन्म 1907 में उतर प्रदेश के फर्रूखाबाद नामक स्थान में हुआ था । महादेवी वर्मा जी संगीत ,दर्शन, चित्रकला, साहित्य के क्षेत्र में अधिक रूचि थी । महादेवी वर्मा जी एक श्रेष्ठ कवियित्री हैं । इन्होने सन् 1933 में प्रयाग विश्वविद्यालय में एम. ए की उपाधि प्राप्त की । इनकी संस्मरणों में कल्पना की मात्रा कम और अनुभुति की मात्रा अधिक है । महादेवी वर्मा जी अपनी रचनाओं में रहस्यवाद का ज्यादा प्रयोग करती हैं ।. इनकी रचनाओं और इनकी प्रतिभाओं को देखते हुए इनकी गद्य और पद्य रचनाओं के कारण सरकार ने इन्हें पद्म विभुषण पुरुस्कार से सम्मानित किया । इनकी गद्य और पद्य रचनाऐं इनकी पहचान है. । इनकी रचनाओं के कारण वे बहुत प्रसिद्ध हैं ।

 रचना

 कविता – रश्मि ,नीरजा,नीहार, दीपशिखा आदि
गद्य – स्मृति की रेखाऐं, श्रृखला की कडियाँ, अतित के चलचित्र आदि ।

 महादेवी वर्मा जी अपनी रचनाओं में शुद्ध खडी बोली का प्रयोग करती हैं । महादेवी जी छायावाद की सुप्रसिद्ध कवियित्री हैं । इनकी रचनाओं में कहीं कहीं संस्कृत भाषा भी मिल जाती है फिर भी इनकी रचनाऐं सरल, सरल और प्रभावकारी हैं । वे अपनी रचनाओं को विचारात्मक, भावात्मक शैली से बहुत अच्छी तरह से सजाती हैं । इनकी रचनाओं में कल्पना का बहुत सुगमता से प्योग मिलता है । इनकी इन रचनाओं की वजह से महादेवी वर्मा जी का साहित्य के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण स्थान है । वर्मा जी ने साहित्य के क्षेत्र में एक अनोखा छाप छोड़ी है जो काबिले तारीफ है । इनकी सुबोध और सरल रचनाओं की जितनी भी तारीफ किया जाए कम है । 11 सितंबर 1987 में महादेवी वर्मा का निधन हो गया ।


 [ Important note – अगर आपको महादेवी वर्मा जी की जीवनी में कोई त्रुटि मिलती है तो कृपया कामेन्ट करके जरूर बताएं हम जल्द से जल्द त्रुटि को सुधारेंगे. ।]

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *